Monday, June 22, 2020

शर्मनाक : बहन का WhatsApp हैक कर भाई ने खोला जीजा की हत्या का राज


सिरसा में एक ऐसी  घटना सामने आई है जिसने पति पत्नी के रिश्ते को तार तार कर दिया। डबवाली में एक व्‍यक्ति की मौत पर उसके साले को शक होता है की ये कोई हादसा नहीं बल्कि हत्‍या है। इस हत्‍या के पीछे उसको लगता है कोई और नहीं बल्कि उसकी  अपनी सगी बहन है जो पति को मरवाने के बाद बेटी को मारने की योजना में जुट गयी थी।

पुलिस के अनुसार राम सिंह मृतक की पत्नी ममता का प्रेमी है। 23 मई की रात करीब 9.30 बजे ममता ने नशे में प्रयोग होने वाली छह गोलियां पीसकर आलू-शिमला मिर्च में मिला दी थीं। बाद में रोटी के साथ सब्जी पति को परोस दी। पति बेहोश हो गया तो ममता ने अपने प्रेमी को राम सिंह को फ़ोन करके घर बुला लिया । कुछ देर बाद ही राम सिंह तथा उसका दोस्त कप्तान सिंह जीप पर आए। ममता तथा राम सिंह ने बेहोश संदीप को उठाकर जीप में डाल दिया। उस दिन लॉकडाउन था, तो राम सिंह और उसका दोस्त जीप में पेशेंट होने की बात कहकर हरियाणा तथा पंजाब पुलिस का नाका क्रॉस कर गए। गांव लंबी-पंजावा मार्ग पर राजस्थान नहर के पुल पर पहुंचकर जिंदा ही उसे नहर में फेंक दिया।

पति को ठिकाने लगाने के बाद ममता डिप्रेशन का बहाना करने लगी थी। रात को सभी सो जाते तो वह रात दो बजे उठती तथा अपने प्रेमी के साथ WhatsApp पर बातचीत करने लगती। इसके बाद उसके भाई को बहन की इन हरकतों पर संदेह होने लगा था।  उसने बहन का मोबाइल लेकर उसके WhatsApp को वेब WhatsApp के जरिए हैक कर लिया। वे दोनों इतने शातिर थे कि WhatsApp पर चैट्स नहीं, बल्कि स्टेटस पर मैसेज लिखकर बातचीत करते हैं। दोनों ने प्राइवेसी लगाई हुई कि कोई दूसरा उनका मैसेज नहीं पढ़ सकता। लेकिन उसका भाई Web WhatsApp के जरिए वह स्क्रीन शॉट लेता रहा। उसकी बहन प्रेमी के साथ मिलकर अपनी 12 वर्षीय बेटी को मारने की योजना बनाने लगी तो भाई ने बहन की करतूत का कच्चा चिठा पुलिस के आगे खोल दिया।

भाई की इतलाह पर पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो महिला ने पति की हत्या की सच्चाई बयां कर दी। सच्चाई सामने आने के बाद पुलिस ने डबवाली के वार्ड नं. 20 निवासी 33 वर्षीय संदीप की हत्या के जुर्म में उसकी पत्नी ममता, गांव सिंघेवाला निवासी राम सिंह तथा कप्तान सिंह को गिरफ्तार किया है।

बहन का सच उजागर करने वाले अरुण गर्ग ने बताया कि उसका जीजा संदीप मलोट के शराब ठेके पर कार्यरत था। जब भी वह डबवाली में घर लौटता तो उसकी बहन उससे झगड़ा करना शुरू कर देती थी। 22 मई को वह घर आया था, उस दिन उसके साथ झगड़ा किया। फिर अगले दिन झगड़ा किया था। करीब एक माह तक वे अलग-अलग जगहों पर बाबों के पास जाते रहे। वह तब तक यही सोच रहा था कि उसका जीजा हिमाचल, पटना या किसी अन्य जगह घूम रहा है और कुछ दिनों के बाद घर लौट आएगा।

हत्या का खुलासा होने के बाद ममता को गिरफ्तार करके रिमांड लिया गया था। उसने बताया कि उसका पति उसने पसंद नहीं करता था। वह हमेशा कहता था कि वह उसे लाइक नहीं करता। इसलिए उसने अपने प्रेमी राम सिंह तथा उसके दोस्त कप्तान सिंह के साथ मिलकर संदीप को ठिकाने लगा दिया। महिला को सोमवार को पुन: अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपिता को न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिए। राम सिंह तथा उसके दोस्त कप्तान सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। जिन्हें मंगलवार को अदालत में पेश किया जाएगा।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter