Monday, July 6, 2020

चीन पीछे हटा तो नेपाल में भी दिखा खौफ - भारतीय सीमा से अपनी 2 चौकी हटाई

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद में नेपाल की तरफ से तनाव बना रहा नेपाल ने कालापानी-लिपुलेख मुद्दे पर भारत के साथ अपने संबंधों में लगातार खटास बनाये रखा । जैसे -जैसे चीन ने अपने रुख बदले वैसे ही मोके की तलाश में नेपाल ने भी तनाव बनाये रखा । जिन जगहों पर नेपाल अपना हक जताकर चौकी लगाकर बैठा था उनमे से दो जगहों से चौकियों को हटा दिया गया है।

धारचूला के उपजिलाधिकारी एके शुक्ला ने सोमवार को नेपाल सशस्त्र पुलिस के एक प्रवक्ता के हवाले से बताया, “उक्कू और बलारा में सीमा चौकी बंद कर दी गई हैं।” शुक्ला ने नेपाली अधिकारी के हवाले से कहा, “बाकू, बुर्किल और विनायक में तीन अन्य नेपाली सीमा चौकियां भी बंद होने की प्रक्रिया में हैं।” शुक्ला ने कहा कि, उक्कू और बलारा में दो सीमा चौकियां नेपाल के गृह मंत्रालय के आदेश पर बंद की गयी हैं क्योंकि इन क्षेत्रों में स्थिति सामान्य है। हालांकि, उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि हाल में उच्चीकृत की गयी चंगरू सीमा चौकी को अभी जारी रखा जाएगा।

सीमा पर भारतीय क्षेत्र में स्थित कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को नेपाली भूभाग के रूप में दिखाने वाले एक नेपाली मानचित्र के हाल में प्रकाशन के बाद भारत-नेपाल संबंधों में आए तनाव के बीच इन सीमा चौकियों को दारचुला में स्थापित किया गया था।भारत द्वारा पिथौरागढ़ जिले के धारचूला कस्बे से लिपुलेख दर्रा को जोड़ने वाले रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण सड़क का उद्घाटन किए जाने के बाद दोनों देशों के संबंधों में तनाव आ गया था।

उत्तराखंड में भारत-नेपाल संबंधों के विशेषज्ञों ने द्विपक्षीय संबंधों में तनाव के बीच नेपाल के कदम को महत्वपूर्ण बताया है. जानकारी के मुताबिक नेपाल द्वारा चौकी को हटाए जाने के फैसले से तनाव में कमी आएगी. पीएम ओली की सरकार गिरने की आशंका के बीच नेपाल के दृष्टिकोण में बदलाव का संकेत भी इसे माना जा रहा है।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter