Friday, July 3, 2020

गुरुग्राम : एक करोड़ की सुपारी देकर दामाद ने कराई थी ससुर की हत्या

करीब डेढ़ साल पहले फाजिलपुर झाड़सा गांव निवासी हरपाल की हत्या उनके ही दामाद ने कराई थी। उसने ससुर की हत्या करने के लिए दो युवकों को एक करोड़ की सुपारी दी थी। पुलिस ने दामाद को गिरफ्तार किया तो उसने अपना अपराध कबूल लिया है।
पुलिस ने उन दोनों बदमाशों को भी गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में आरोपित दामाद ने बताया कि पत्नी के साथ झगड़ा होने पर उसके ससुर ने उसके साथ मारपीट की थी, जिससे उसने गुस्से में आकर उसने अपने ससुर की हत्या की योजना बनाई।

बता दें कि पिछले साल 26 जनवरी को फाजिलपुर झाड़सा गांव निवासी हरपाल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। दो बाइक पर आए कुछ बदमाशों ने उन्हें गोली मारी थी। पुलिस की शक की सुई हरपाल के दामाद गांव भोकरका निवासी नरेश पर गई, मगर पुख्ता सबूत नहीं थे।

हत्याकांड की जांच क्राइम ब्रांच के तेजतर्रार इंस्पेक्टर बिजेंद्र हुड्डा की टीम को दी गई तो उन्होंने मामले की सभी कड़ियां जोड़ते हुए बृहस्पतिवार रात को मोकलवास-पचगांव रोड पर केएमपी के पास से नरेश को गिरफ्तार किया। उसके बाद सुपारी लेकर वारदात को अंजाम देने वाले गांव खेडला निवासी जयवीर तथा मोकलवास निवासी विकास यादव को भी रात में ही गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने बताया कि नरेश ससुर द्वारा मारपीट करने के बाद अवैध हथियार रखने के मामले में भोंडसी जेल गया था। उसकी मुलाकात विकास यादव व जयवीर से हुई। दोनों एक मामले में बंद थे। नरेश ने वहीं अपने ससुर की हत्या की साजिश रची। नरेश की पत्नी हरपाल की गोद ली हुई बेटी थी। एक कारण यह भी था कि हरपाल की संपत्ति का कोई दूसरा वारिस न होने के कारण नरेश ने उन्हें रास्ते से हटाने की योजना बनाई। विकास की योजना पर राहुल व जयवीर ने हत्या को अंजाम दिया।

पुलिस पूछताछ में नरेश ने कबूला कि एक करोड़ की रकम उसके पास नहीं थी। उसने अपने दादा की जमीन विकास के नाम करवा दी। यह बात उसके पिता को पता चल गई तो उन्होंने किसी तरह जमीन वापस अपने नाम करवा ली। नरेश बदमाशों को सुपारी की रकम देने का इंतजाम ही कर रहा था पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter