Thursday, July 23, 2020

ऑटो ड्राइवर की बेटी है दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन : लड़कियों को खरीदकर बनाती थी सेक्स वर्कर

बुधवार नाबालिग का अपहरण कर देह व्यापार में धकेलने से जुड़े मामले में दोषी करार गीता अरोड़ा उर्फ सोनू पंजाबन व संदीप बेदवाल को सजा सुनाई गई। नजफगढ़ थाना क्षेत्र से जुड़े इस मामले में द्वारका जिला अदालत के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश प्रीतम सिंह ने सोनू पंजाबन को 24 वर्ष की कठोर कारावास व संदीप को 20 वर्ष के कारावास की सजा सुनाई।

गीता अरोड़ा उर्फ सोनू पंजाबन का जन्म 1981 में दिल्ली की गीता कॉलोनी में हुआ। उसके पिता ओम प्रकाश अरोड़ा पाकिस्तान के रेफ्यूजी थे, जो बंटवारे के बाद हरियाणा के रोहतक में आकर बसे थे। गीता अरोरा ने हाई स्कूल पास करने के बाद ब्यूटी पॉर्लर का काम शुरू कर दिया था। 17 साल की छोटी उम्र में ही विजय से उसकी शादी हो गयी। विजय कुख्यात गैंगस्टर और गीता अरोरा का पहला पति था. विजय से शादी के बाद गीता उर्फ सोनू पंजाबन दिल्ली आ गयी।


दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक विजय गैंगस्टर के बच्चे की सोनू पंजाबन जब मां बनने वाली थी, उसी दौरान विजय को पुलिस ने एक मुठभेड़ के दौरान ढेर कर दिया। पति की मौत के कुछ समय बाद ही सोनू के पिता की मौत हो गई। इसके बाद घरेलू, सामाजिक, आर्थिक हालात गीता के विपरीत होते चले गए। लिहाजा जिंदगी बसर करने के लिए गीता ने देह व्यापार के काले कारोबार में छलांग लगा दी।

अब तक गीता अरोरा का नाम भले ही सोनू पंजाबन न पड़ा हो मगर गीता दिल्ली में देह-व्यापार के उसूलों को बखूबी समझ चुकी थी। दौलतमंद-कामुक इंसानों की कमजोरी गीता अरोरा पकड़ चुकी थी। पुलिस सूत्रों के मुताबिक पहले पति विजय की मौत के कुछ साल बाद ही गीता ने दिल्ली में रह रहे दो भाइयों हेमंत उर्फ सोनू और दीपक से शादी कर ली।

अपराध की दुनिया में हेमंत और दीपक दोनो भाइयों की राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में उन दिनों तूती बोलती थी। हेमंत - दीपक और पुलिस की टीमों के बीच अक्सर मुठभेड़ होती रहती थीं। सन 2008 में दोनो कुख्यात भाइयों हेमंत और दीपक को पुलिस एनकाउंटर में ढेर कर दिया गया। दोनो भाइयों की मुठभेड़ में हुई मौत को लेकर भी उस वक्त गीता अरोरा का ही नाम मीडिया में उछला। कहा जा रहा था कि गीता अरोरा ने दोनो भाइयों से शादी करके उनके खौफ का लाभ लेकर देह-व्यापार के धंधे की जड़ें राजधानी और आसपास के इलाके में फैला लीं।उसके बाद पुलिस से मुखबिरी करके दोनो को ढेर करा दिया। इन तमाम तथ्यों की खुली जुबान से तस्दीक भले ही कोई न करे। इतना जरुर है कि दोनो भाइयों के मारे जाने के बाद गीता अरोरा सेक्स के काले कारोबार में 'सोनू पंजाबन' के नाम से चर्चित हो गई। सोनू नाम पुलिस मुठभेड़ में मारे गए उसके पति हेमंत का उपनाम था।

सहायक पुलिस आयुक्त (रिटायर्ड) जयपाल सिंह के मुताबिक सोनू पंजाबन के बात करने का जो स्टाइल है उससे कोई भी पहली नजर में इम्प्रेस हुए बिना नहीं रह पाता है। सोनू पंजाबन गुस्सैल किस्म की महिला हैं. वो कब कहां किसके साथ क्या सलूक कर बैठे इसका अंदाजा लगा पाना मुश्किल है। कभी दिल्ली में सेक्स ट्रेड धंधे की क्वीन मानी जानेवाली सोनू ने अपना बिजनस जेल से बाहर आने के बाद बहुत संगठित तरीके से चलाना शुरू कर दिया था।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter