Saturday, July 25, 2020

Covaxin का 50 लोगों पर ट्रायल पूरा - PGI रोहतक के नतीजों ने जगाई उम्‍मीद


देश की अपनी पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन Covaxin का ट्रायल तेजी से आगे बढ़ रहा है। PGI रोहतक में इंसानों पर इसकी जांच का पहला दौर पूरा हो चुका है। देशभर में 50 लोगों को इस वैक्‍सीन की पहली डोज दी जा चुकी है। शनिवार को PGI रोहतक के साइंटिस्‍ट्स ने दूसरे दौर की प्रक्रिया शुरू कर दी। उन्‍होंने छह और लोगों को वैक्‍सीन की डोज दी है। जाँच टीम के निरक्षक डॉ सविता शर्मा ने न्‍यूज एजेंसी एएनआई से कहा कि Covaxin ट्रायल के शुरुआती नतीजे बेहद 'उत्‍साहवर्धक' रहे हैं।

Covaxin का सबसे बड़ा ट्रायल दिल्ली एम्स में चल रहा है। पहले चरण में एम्स में 100 वॉलंटियर्स पर ट्रायल करना है। दिल्ली में रहने वाले ज्यादातर वॉलंटियर्स के शरीर में पहले से ही कोरोना के खिलाफ ऐंटीबॉडी मौजूद है जिस कारण वे ट्रायल के लिए योग्य नहीं हैं। एम्‍स में शुक्रवार को एक शख्‍स को वैक्‍सीन की डोज दी गई थी। उसे किसी भी प्रकार का रिएक्शन नहीं हुआ और दो घंटे बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

डॉक्टर ने वॉलंटियर्स को एक डायरी दी गई है जिसमे उन्हें अगर कोई दिक्कत होती है तो उसके बारे में लिखना है। वॉलंटियर को जांच  के लिए सात दिन बाद फिर बुलाया जाएगा अगर इस बीच उन्हें किसी भी प्रकार की दिक्कत होती है तो वो कभी भी आ सकते हैं। इसके अलावा वैक्सीन टीम के लोग फोन के जरिए उनके संपर्क लगातार संपर्क में रहेंगे। वैक्सीनेशन के बाद इसकी सेफ्टी की रिपोर्ट एथिक्स कमिटी को भेजी जाएगी। कमिटी के रिव्यू के बाद इस ट्रायल को आगे बढ़ाया जाएगा।

Covaxin के अलावा जायडस कैडिला की ZyCoV-D को भी फेज 1 और फेज 2 ट्रायल के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से मंजूरी मिल चुकी है। ट्रायल के पहले फेज में जायडस कैडिला 1,000 वॉलंटियर्स को डोज देगी। DNA पर आधारित ZyCoV-D अहमदाबाद के वैक्‍सीन टेक्‍नोलॉजी सेंटर (VTC) में निर्मित की गई है। अभी भारत की सात कंपनियां- Bharat Biotech, Zydus Cadila, Serum Institute, Mynvax Panacea Biotec, Indian Immunologicals और Biological E कोरोना वायरस की वैक्‍सीन बनाने में जुटी हुई हैं।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter