Friday, August 7, 2020

इंतजार खत्म - दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन 12 अगस्‍त को होगी पंजीकृत


कोरोना वायरस की वैक्‍सीन बनाने के ल‍िए दुनिया के तमाम देश अपने स्तर पर कोशिश कर रहे है। इसी बीच रूस से एक अच्छी खबर आ रही है। रूस के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने बताया कि रूस की वैक्‍सीन अपने ट्रायल में सफल रही है और अब अक्‍टूबर से देश में बड़े पैमाने पर लोगों के टीकाकरण काम काम शुरू होगा। उन्‍होंने कहा कि टीकाकरण में आने वाला पूरा खर्च सरकार उठाएगी। वहीं रूस के उप स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ओलेग ग्रिदनेव ने कहा कि रूस 12 अगस्‍त को दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन को पंजीकृत कराएगा।

ग्रिदनेव ने ऊफा शहर में कहा, 'इस समय वैक्‍सीन का तीसरा चरण चल रहा है जो बेहद महत्‍वपूर्ण है। हमें यह समझना होगा कि यह वैक्‍सीन सुरक्षित रहे। मेडिकल प्रफेशनल और वर‍िष्‍ठ नागरिकों को सबसे पहले कोरोना वायरस का टीका लगाया जाएगा।' उन्होंने कहा कि इस वैक्‍सीन की प्रभावशीलता तब आंकी जाएगी जब देश की जनता के अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाएगी।

इससे पहले रूस ने बताया था कि उनकी वैक्‍सीन क्लिनिकल ट्रायल में 100 फीसदी सफल रही। इस वैक्‍सीन को रूस रक्षा मंत्रालय और गमलेया नैशनल सेंटर फॉर र‍िसर्च ने तैयार किया है। रूस ने कहा कि ट्रायल में जिन लोगों को यह वैक्‍सीन लगाई गई, उन सभी में SARS-CoV-2 के प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता पाई गई है।

यह ट्रायल 42 दिन पहले शुरू हुआ था। उस समय जिन लोगों को मास्‍को के बुरदेंको सैन्‍य अस्‍पताल में कोरोना वैक्‍सीन लगाई गई थी सोमवार को दोबारा उनकी गहन जांच की गई। इस दौरान पाया गया कि सभी लोगों में कोरोना वायरस के प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता पैदा हुई है। इस जांच परिणाम के बाद सरकार ने रूसी वैक्‍सीन की तारीफ की है। रूस के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि किसी भी वॉलटिंअर के अंदर कोई भी नकारात्‍मक साइड इफेक्‍ट या परेशानी नहीं आई। अब इसको लेकर बड़े पैमाने पर जनता में इस्‍तेमाल से पहले सरकार की स्‍वीकृति लेने जा रही है।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter