Sunday, August 2, 2020

जिस दिन कोई सबूत मिला उस दिन रिया चक्रवर्ती को जमीन खोदकर भी खोज निकालेंगे - बिहार पुलिस


सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के मामले की जांच कर रही बिहार पुलिस के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा है की सभी सबूतो   से रिया चक्रवर्ती पर शक होता है । सुशांत सिंह राजपूत सभी से मिलकर रहने वाले इंसान थे वो कभी किसी से लड़ाई नहीं करते थे और औरतों की बहुत इज्जत करते थे शक के आधार पर ही रिया प्राथमिकी में आरोपी हैं और इसी वजह से पटना पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

पुलिस का कहना है की जिस दिन हमें सबूत मिल गए उस दिन रिया को जमीन से खोदकर भी निकाल लेंगे चाहे वह दुनिया के किसी भी कोने में छुपी हुई हों। पुलिस का कहना है कि रिया को सामने आना चाहिए और इस केस को सुलझाने में हमारी मदद करनी चाहिए। यह लुका छुपी का खेल ठीक नहीं है।

वहीं फिल्म निर्देशक रूमी जाफरी से भी एसआईटी ने बयान लिया। उनका कहना है की लॉकडाउन के बाद सुशांत और रिया रूमी की फिल्म में काम करने वाले थे। सुशांत बहुत शांत स्वभाव के इंसान थे  मार्च में उनकी बात रूमी जाफरी से हुई थी। तब सुशांत ने भी लॉकडाउन होने का हवाला दिया था। यह सुशांत और उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती की एक साथ पहली फिल्म थी। जाफरी ने बताया कि जब भी लॉकडाउन आगे बढ़ता था तो सुशांत अपसेट हो जाते थे क्योकि वो अपने काम को लेकर बहुत खुश होते थे वो रिया की हर बात मानता था इसीलिए रिया के कहे को वो कभी मना नहीं करते थे।

पुलिस की टीम ने घर के स्वीपर से पूछताछ की तो स्वीपर ने बताया कि रिया मैडम की इजाजत के बिना कोई भी घर में नहीं घुस सकता था। रिया मैडम ही तय करती थीं कि सुशांत के कमरे को साफ करना है या नहीं उनके कमरे की हर सेटिंग रिया मैडम ही करती थी ।  सुशांत के कमरे में किसी बाहरी कर्मी को जाने नहीं दिया जाता था। एक समय ऐसा आ गया, जब वे अपने ही कर्मियों से नहीं मिल पाते थे।  सुशांत के कुक ने बताया उन्होंने कभी सुशांत को डॉक्टर के पास नहीं देखा सभी काम रिया ही करती थी।

रिया चक्रवर्ती अपने भाई शौविक चक्रवर्ती के साथ भूमिगत हो गई हैं। सूत्रों की मानें तो दोनों का मोबाइल बंद है। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि पटना पुलिस की एसआईटी इनके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी कराए, ताकि दोनों देश से बाहर न भाग सकें। इसके लिए संबंधित विभाग को पत्र भी लिख सकती है।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter