Tuesday, August 4, 2020

राम मंदिर भूमि पूजन के लिए इन लोगों को मिला है न्यौता - देखें पूरी लिस्ट


अयोध्‍या में राम मंदिर के भूमि पूजन की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं। पूरी अयोध्या नगरी को इस मौके पर दुल्हन की तरह सजाया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी 5 अगस्त को हनुमानगढ़ी में पूजा-अर्चना करने के बाद रामलला के दर्शन करेंगे और श्रीराम मंदिर का शिलान्यास करेंगे। कोरोना संक्रमण को देखते हुए राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए मात्र 175 लोगों को न्यौता दिया गया है।

इस कार्यक्रम में मुख्य मंच पर केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ही मौजूद रहेंगे।

राम जन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरी, ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय, निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र, सदस्य परमानन्द गिरी, सदस्य विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र, ट्रस्ट के सदस्य डॉ अनिल मिश्र, डॉ कामेश्वर चौपाल, महंत दीनेन्द्र दास, अपर सचिव गृह, भारत सरकार ट्रस्ट के नामित सदस्य ज्ञानेश कुमार, अपर मुख्य सचिव यूपी और ट्रस्ट के नामित सदस्य अवनीश अवस्थी, अयोध्या के डीएम और ट्रस्ट के पदेन सदस्य अनुज झा भी कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे।

इस कार्यक्रम में दो मुस्लिमों को भी आमंत्रित किया गया है. इनके बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी और पद्मश्री मोहम्मद शरीफ है. बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा भी था कि अगर भगवान राम की मर्जी है कि मैं इस कार्यक्रम में जाऊं तो जरूर जाऊंगा. जबकि मोहम्मद शरीफ वो महान इंसान है जिन्होंने अब तक साढ़े पांच हजार से ज्यादा लावारिस शवों का अंतिम संस्कार किया है।

इनके अलावा जनकपुरी के जानकी मंदिर के महंत, अशोक सिंघल के भाई के बेटे सलिल सिंघल, काशी विद्वत परिषद के पंडित राम नारायण द्विवेदी, मंत्री काशी विद्वत परिषद, पंडित विनय पांडेय, ज्योतिष विभाग के हेड (बीएचयू), रामचंद्र पांडेय, उपाध्यक्ष काशी विद्वत परिषद भी कार्यक्रम में शामिल होंगे। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए नेपाल से भी संत अयोध्या आयेंगे।

इनके साथ-साथ 36 परंपराओं के 135 संत भी कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे. संतों में दशनामी सन्यासी परंपरा, रामानंद वैष्णव परंपरा, रामानुज परंपरा, नाथ परंपरा, निम्बार्क, माध्याचार्य, बल्‍लभचार्य, रामसनेही, कृष्णप्रणामी, उदासीन, निर्मले संत, कबीर पंथी, चिन्मय मिशन, रामकृष्ण मिशन, लिंगायत, रविदासी संत, वाल्मीकि संत, आर्य समाज, सिख परंपरा, जैन संत, कैवल्य ज्ञान, संतपथ, इस्कान, स्वामीनारायण, वारकरी, एकनाथ, बंजारा संत, वनवासी संत, आदिवासी गौण, गुरु परंपरा, भारत सेवाश्रम संघ, आचार्य समाज, संत समिति, सिंधी संत और अखाड़ा परिषद के संतों को भी आमंत्रित किया गया है।

इसके अलावा योग गुरु स्वामी रामदेव भी शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल होंगे। अयोध्या के बीजेपी सांसद लल्लू सिंह और यहां के विधायक वेद प्रकाश गुप्ता को भी कार्यक्रम के लिए बुलाया गया है। उम्र का खयाल रखते हुए कल्याण सिंह और भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी को आमंत्रित नहीं किया गया है।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter