Friday, August 21, 2020

Gurgaon Gang War : क्या गुरुग्राम में तेज होगी गैंगवार ?


गुरुग्राम में क्या एक बार फिर ऐसी घटना होने की आशंका है जो पहले बदमाश गैंगस्टर कौशल एवं छैलू के बीच में हुई थी ।  गैंगस्टर जॉनी एवं हरिओम के गैंग के बीच गैंगवार शुरू होने की आशंका बढ़ गई है। इसे देखते हुए गुरुग्राम पुलिस सतर्क हो गई है। वीरवार की शाम को जिन आरोपितों ने तीन युवकों की गोली मारकर हत्या की, उनकी तलाश में क्राइम ब्रांच ने अपनी पूरी ताकत दांव पर लगा  दी है। एक नहीं दो नहीं बल्कि क्राइम ब्रांच की पांच टीमों को उन  आरोपियो  की गिरफ्तारी के लिए लगाया गया है। जिन युवकों की हत्या की गई वे गैंगस्टर जॉनी के करीबी बताए जाते हैं और वे आरोपित गैंगस्टर हरिओम के नजदीकी बताए जाते हैं।

आपको बता दें कि एक ही गांव नाहरपुर रूपा के रहने वाले सबसे बड़े बदमाश गैंगस्टर सुदेश उर्फ छैलू एवं कुख्यात गैंगस्टर कौशल के बीच अच्छी दोस्ती थी। कहा जाता है कि दोनों एक ही थाली में खाना खाते थे। वर्ष 2005 में  गैंगस्टर छैलू की कौशल के बड़े भाई जितेंद्र से किसी बात पर झगड़ा हो गया था। आरोप है कि छैलू ने जितेंद्र की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद छैलू को लगने लगा था कि कौशल कभी भी उससे बदला ले सकता है। इस वजह से कौशल को भी रास्ते से हटाने का प्लान लिया था। जब कौशल ने देखा कि छैलू उसके पीछे लगा है फिर उसने अपना गैंग बनाया था।

कहा जाता है कि गैंग ने छैलू के साथ -साथ उसके गैंग के हर एक-एक सदस्य को मार दिया। छैलू की पत्नी की भी हत्या कर दी गई। ठीक उसी तरह की स्थिति फिर से साइबर सिटी में बनती हुई दिखाई दे रही है। बताया जाता है कि जॉनी एवं हरिओम भी कभी काफी नजदीकी थे। धीरे-धीरे दोनों के बीच दूरी बढ़ गई। अब दोनों एक-दूसरे के खून के प्यासे बताए जाते हैं। छैलू एवं कौशल की तरह ही जॉनी एवं हरिओम भी एक ही गांव बसई के रहने वाले हैं। जॉनी के ऊपर हरिओम ने अपने  चचेरे भाई की हत्या करने का आरोप जॉनी के ऊपर लगाया है जबकि हरिओम के ऊपर जॉनी के छोटे भाई की हत्या का आरोप है। दोनों मर्डर केश में जेल में बंद हैं।

वीरवार शाम जिस तरह से दो स्कूटी एवं एक बाइक सवार पांच-छह बदमाशों ने तीन युवकों की हत्या की, उससे ही गैंगवार की आशंका बढ़ गई है। क्राइम के जानकारों का मानना है कि अपनी दहशत पैदा करने के लिए इस तरह कोई भी गैंग वारदात को अंजाम देता है। एक को सेक्टर-9 के खाली प्लॉट में मारा। जबकि दो का पीछा करते हुए मारा। इनमें से एक को प्लॉट के बगल की साेसायटी में घुसकर मारा। तीसरे को गांव बसई में जाकर मारा। बताया जाता है कि इससे पहले इस तरह वारदात को अंजाम पहले कभी नहीं दिया गया। बदमाश इतनी तैयारी में थे कि वे सोसायटी से लेकर गांव तक में घुसने से बाज नहीं आए।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter