Saturday, September 12, 2020

UPPSC Result : रिश्तेदार कहते थे शादी कर दो, पापा कहते थे - पहले अफसर बनेगी मेरी बेटी

 


गुड़गांव: उत्तरप्रदेश लोक सेवा आयोग का परिणाम शुक्रवार शाम को आया जिसमें गुड़गांव की संगीता राघव ने दूसरी रैंक लेकर सफलता हासिल की  हैं। सहजावास गांव की रहने वाले संगीता अधिकारी बनने के बाद अब बच्चों के न्यूट्रिशन को लेकर अपने क्षेत्र में अधिक से अधिक काम करना चाहती हैं। इसके साथ ही महिला सुरक्षा, योगा मेडिटेशन को लेकर भी काम करेंगी। उनका कहना है कि इन क्षेत्रों में काम करने की काफी हद  तक आवश्यकता है।


परिवार वालो का कहना है कि वह बचपन से ही पढ़ाई को लेकर वह हमेशा गंभीर रही हैं। इसलिए संगीता ने 2015 से अपनी सोशल लाइफ एकदम अलग  कर दी थी। वह वॉट्सऐप का इस्तेमाल केवल अपने काम के लिए करती थीं। न तो वह दोस्तों से ज्यादा मिलती थी और  न ही किसी पारिवारिक समारोह का वह हिस्सा बनती थी ।


वह घंटों तक पढ़ाई करती थी  और हमेशा कुछ न कुछ पढ़ते रहने जज्बे  ने ही उन्हें आज अधिकारी बनाया है। जिसका वह हमेशा से इंतजार कर रही थीं। संगीत बताती हैं कि परिवार ने कभी भी क्यों, क्या, कैसे जैसे कोई भी सवाल नहीं किए। शादी के लिए  पड़ोस और  रिश्तेदार हमेशा कहते रहते थे लेकिन मेरे पापा  ने हमेशा ये ही  कहा कि बच्ची अभी तैयारी कर रही है तो इसलिए शादी का प्रेशर हम उसे नहीं देंगे।


संगीता का कहना  हैं कि उन्होंने यूपीपीएससी की परीक्षा 2017 में भी दी थी, लेकिन उस समय उन्होंने इतनी तैयारी नहीं की जिसके बाद 2018 में उन्होंने यूपीपीएससी-प्री का एग्जाम दिया। जिसके रिजल्ट आने के बाद 2019 में यूपीपीएससी-मेन का एग्जाम हुआ और 2020 अगस्त में इंटरव्यू में उनका सिलेक्शन हुआ। उन्हें पूरी उम्मीद थी कि इसमें उनका चयन होगा।


उनकी बड़ी बहन यूपीएससी की तैयारी कर रही है, वहीं छोटे भाई ने अभी आईआईटी से मास्टर की पढ़ाई पूरी की है। पिता दिनेश सिंह राघव नेवी से रिटायर्ड हैं। वहीं, मां पवन राघव हाउसवाइफ हैं। संगीता का कहना है  कि उन्हें इस बात कि बहुत खुशी है कि वह परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर पाई। इस मेहनत में उन्हें अपने परिवार का भी पूरा सहयोग मिला। वह कभी भी पढ़ाई को लेकर टेंशन नहीं लेती थीं। हमेशा धैर्य के साथ ही उन्होंने अपनी पढ़ाई की और उसका नतीजा  आज सबके सामने है।


देव समाज स्कूल से 12वीं के बाद सेक्टर 14 गवर्नमेंट गर्ल्स कॉलेज से बीएससी की पढ़ाई की जिसके बाद दिल्ली से एमएससी और फिर एग्रीकल्चर से नेट क्वॉलिफाई किया है। वहीं, 2017 में जेएनयू से पीएचडी के लिए अप्लाई किया था 1 साल के बाद उसे छोड़कर उन्होंने यूपीपीएससी की तैयारी शुरू कर दी। सीनियर्स ने काफी मदद की।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Newsletter