Skip to main content

गोरखनाथ : एक महान गुरु भक्त - दहीबडे के बदले में दी अपनी आँख


एक बार तीर्थयात्रा पर निकले गुरू शिष्य कनकगिरी नगर मे जठराग्नि शमन करने हेतु मछिन्द्र नाथ ने गोरखनाथ को नगर में अलख जगाने का आदेश दिया ! घर घर के द्वार अलख जगाने पर भी निराश हुए गोरखनाथ को एक कुलीन ब्राह्मणि ने श्राद्धरत होने से खप्पर भरकर विविध व्यंजन भिक्षा दी और गोरखनाथ सहर्ष गुरूसमक्ष अर्पण किये !

दोनों ने भोजन ग्रहण किया तत्पश्चात मछिन्द्रनाथ ने कहा - बेटा गोरख ! दहीबडे़ तो बडे़ स्वादिष्ट है यदि एक

ओर मिल जाता तो ... ! गुरूमंशा जान गोरख तुरंत उठ खडे़ हुए और खप्पर चिमटा ले नगर को प्रस्थान किया। वे ग्राम-नगर के बाहर ही आश्रय लेते थे !

एक जीर्ण शीर्ण मंदिर में वहां ठहरे थे। पुन: उसी द्वार अलख उचारा तो एक कर्कशा ब्राह्मिणी जो उस स्त्री की जेठानी थी जिसने श्राद्ध के हलवा पूरी पकौडा व दहीबडा से खप्पर भरा था,द्वार पर आई ! गोरखनाथ बडी़ विनम्रता से बोले - माताजी ! मेरे साथ मेरे गुरूदेव भी है। आपके यहां से प्राप्त भोजन हमने बडे़ प्रेम से ग्रहण किया ! अभी गुरूजी की एक-दो दहीबडे़ और खाने की इच्छा बाकी है। जिस कारण मुझे दोबारा यहां आना पडा़। आप एक-दो दहीबडा़ और देने की कृपा करें !

"मुझे तो तू ही पेटू नजर आ रहा है। तेरी ही जीभ दहीबडे़ खाने को लपलपा रही है। गुरू बेचारे को व्यर्थ ही बदनाम कर रहा है - वह बोली ! गोरखनाथ बोले - माता ! मैं कभी झूंठ नहीं बोलता !

ब्राह्मिणी ने कहा - मैं तुम जैसे ठगों से भली भांति परिचित हूं। तुम कभी किसी का भला नहीं कर सकते। गृहस्थियों से लूटकर खाना ही तुम्हारा धर्म है !

उसके कठोर वचन सुन गोरखनाथ बोले - माताश्री ! आप मेरे गुरू की इच्छा पूर्ति कर दें तो मैं आपकी हर परेशानी दूर करने की कोशिश करूंगा !

ब्राह्मणी बोली - तेरे पास रखा ही क्या है जो तू मेरी मनोकामना पूरी करेगा ! गोरखनाथ -आप एकबार कहकर तो देखें कि मैं क्या कर सकता हूं ! वो बोली - -मुझे दहीबडे़ के बदले तेरी एक आँख चाहिए। बौल देगा !

आँख कौनसी बडी़ चीज है। मैं तो गुरू इच्छा के लिए अपनी जान भी दे सकता हूँ - गोरखनाथ ने जवाब दिया !

वह बोली - मैं दहीबडा़ लाती हूं तब तक तू आँख निकालकर रख ! इतना कह जब वह मुडी़ तो गोरखनाथ ने आँख में ऊंगली डाल पुतली को जोर से झटका मारकर आँख बाहर निकाल ली और खून टपकने लगा !

वह स्त्री लौटी तो उसके होश उड़ गए । वह मन ही मन दुखी होकर दहीबडे़ देकर जाने लगी ! तो गोरख बोले- माताजी ! आँख तो लेती जाओ ! वह पश्चाताप मे भर बोली-- बेटा ! मैं तेरी आँख लेकर क्या करूंगी ? मैं तो तेरी गुरू भक्ति देखकर खुद ही दुखी हो रही हूँ। बेटा ! मुझे माफ कर दे।

धन्य है भारतभूमि जहां ऐसे महान् गुरूभक्त शिष्य हुए जो अपने गुरू के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने के लिए सदैव तत्पर रहे।

Comments

Popular posts from this blog

बुरी खबर - पाकिस्‍तान के स्‍टार खिलाड़ी अफरीदी की गोली मारकर हत्‍या

  खेल प्रेमियो के लिए एक बहुत ही बुरी खबर है। पाकिस्‍तान में दो पक्षों की झगडे में पाकिस्‍तान के स्‍टार खिलाड़ी कर हत्या कर दी। यह घटना पाकिस्‍तान के खैबर जिले के जमरूद में घटित हुई। पाकिस्‍तान नेशनल फुटबॉल टीम के खिलाड़ी जुनैद अफरीदी की मैदान पर फुटबॉल मैच के दौरान ही गोली मारकर हत्‍या कर दी। जानकारी के मुताबिक दो समूह के बीच भूमि विवाद के कारण गोलीबारी हुई, जिसमें जुनैद को गोली लग गई और उन्‍होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। इस विवाद में जुनैद के अलावा भी एक व्‍यक्ति को गंभीर चोंटें भी आई है। इस घटना से फैंस में रोष हैं।

गुरुग्राम : कान में ईयरफोन लगा सैर कर रहा था युवक - ट्रेन की चपेट में आने से मौत

  धनवापुर फाटक  कि  रेलवे लाइन  के आस -पास शुक्रवार सुबह एक  हादसे में ट्रेन की चपेट में आकर एक युवक की मौत हो गई। युवक ने कान में ईयरफोन लगाए हुए गाने सुनते हुए पटरी के साथ-साथ चल  रहा था। मालगाड़ी के ड्राइवर ने काफी देर तक हॉर्न दिया, लेकिन गाने के चलते वह सुन नहीं सका और ट्रेन की चपेट में आ गया। जीआरपी थाना पुलिस ने बताया कि शुक्रवार सुबह करीब 7 बजे यह हादसा हुआ। लक्ष्मण विहार कॉलोनी निवासी 21 साल का अवनीश धनवापुर फाटक के पास सैर करने गया। वह ट्रेन की पटियों के साथ-साथ सैर कर रहा था। कान में ईयरफोन लगाकर वह तेज आवाज में गाने भी सुन रहा था। तभी दिल्ली की ओर से मालगाड़ी आई। लोको पायलट ने युवक को देखकर हॉर्न भी बजाया लेकिन ईयरफोन व गाने की तेज आवाज के चलते युवक सुन नहीं सका और मालगाड़ी की चपेट में आ गया। इस हादसे की सारी सूचना कंट्रोल रूम  में दी गई तो जीआरपी थाना पुलिस मौके पर पहुंची। मृतक छात्र के परिजन  व पिता शैलेंद्र भी यहां आए। पिता ने शक जताया कि किसी ने बेटे को ट्रेन की ओर धक्का दिया। जीआरपी थाना पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराया। जिसमें युवक को धक्का देन

शादी का झांसा देकर दिल्ली की छात्रा से गुड़गांव के होटल में दुष्कर्म

  दिल्ली की 18 साल की छात्रा से गुड़गांव के होटल में दुष्कर्म का नया  मामला सामने आया है। छात्रा का कहना है की  आरोपित ने उसे शादी का झूठा झांसा देकर चुप करा दिया और लगभग 2 साल तक उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। और अब उससे शादी करने  से मना कर रहा   है। डीएलएफ सेक्टर-29 थाना एसएचओ इंस्पेक्टर जगबीर ने बताया कि युवती ने एफआईआर दर्ज करवाई । पुलिस के कहना है कि , शिकायत देने वाली छात्रा पत्राचार से बीए प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रही है। उसकी उम्र अब 18 साल 2 महीने है। युवती का कहना है कि साल 2018 में एक शादी समारोह में गुड़गांव के सरहौल गांव निवासी अभिषेक से उसकी भेंट  हुई।और जल्द ही दोनों की मुलाकात दोस्ती में बदल गई और दोनों मोबाइल पर बातचीत करने लगे। युवती ने  आरोप लगाया है कि युवक ने कुछ समय पहले एमजी रोड स्थित एक होटल में बहाने से बुलाकर रेप किया। युवती ने जब उसकी बात के खिलाफ विरोध जताया तो उसने कहा कि जल्द ही शादी कर लेंगे। लेकिन इसके बाद से कई बार रेप किया और अब शादी से इंकार कर दिया। बुधवार शाम को युवती ने पुलिस शिकायत को दी । जिस पर एफआईआर दर्ज की गई है कार्रवाई कर जल्द ही आरोपित को पकड़