Skip to main content

गोरखनाथ : एक महान गुरु भक्त - दहीबडे के बदले में दी अपनी आँख


एक बार तीर्थयात्रा पर निकले गुरू शिष्य कनकगिरी नगर मे जठराग्नि शमन करने हेतु मछिन्द्र नाथ ने गोरखनाथ को नगर में अलख जगाने का आदेश दिया ! घर घर के द्वार अलख जगाने पर भी निराश हुए गोरखनाथ को एक कुलीन ब्राह्मणि ने श्राद्धरत होने से खप्पर भरकर विविध व्यंजन भिक्षा दी और गोरखनाथ सहर्ष गुरूसमक्ष अर्पण किये !

दोनों ने भोजन ग्रहण किया तत्पश्चात मछिन्द्रनाथ ने कहा - बेटा गोरख ! दहीबडे़ तो बडे़ स्वादिष्ट है यदि एक

ओर मिल जाता तो ... ! गुरूमंशा जान गोरख तुरंत उठ खडे़ हुए और खप्पर चिमटा ले नगर को प्रस्थान किया। वे ग्राम-नगर के बाहर ही आश्रय लेते थे !

एक जीर्ण शीर्ण मंदिर में वहां ठहरे थे। पुन: उसी द्वार अलख उचारा तो एक कर्कशा ब्राह्मिणी जो उस स्त्री की जेठानी थी जिसने श्राद्ध के हलवा पूरी पकौडा व दहीबडा से खप्पर भरा था,द्वार पर आई ! गोरखनाथ बडी़ विनम्रता से बोले - माताजी ! मेरे साथ मेरे गुरूदेव भी है। आपके यहां से प्राप्त भोजन हमने बडे़ प्रेम से ग्रहण किया ! अभी गुरूजी की एक-दो दहीबडे़ और खाने की इच्छा बाकी है। जिस कारण मुझे दोबारा यहां आना पडा़। आप एक-दो दहीबडा़ और देने की कृपा करें !

"मुझे तो तू ही पेटू नजर आ रहा है। तेरी ही जीभ दहीबडे़ खाने को लपलपा रही है। गुरू बेचारे को व्यर्थ ही बदनाम कर रहा है - वह बोली ! गोरखनाथ बोले - माता ! मैं कभी झूंठ नहीं बोलता !

ब्राह्मिणी ने कहा - मैं तुम जैसे ठगों से भली भांति परिचित हूं। तुम कभी किसी का भला नहीं कर सकते। गृहस्थियों से लूटकर खाना ही तुम्हारा धर्म है !

उसके कठोर वचन सुन गोरखनाथ बोले - माताश्री ! आप मेरे गुरू की इच्छा पूर्ति कर दें तो मैं आपकी हर परेशानी दूर करने की कोशिश करूंगा !

ब्राह्मणी बोली - तेरे पास रखा ही क्या है जो तू मेरी मनोकामना पूरी करेगा ! गोरखनाथ -आप एकबार कहकर तो देखें कि मैं क्या कर सकता हूं ! वो बोली - -मुझे दहीबडे़ के बदले तेरी एक आँख चाहिए। बौल देगा !

आँख कौनसी बडी़ चीज है। मैं तो गुरू इच्छा के लिए अपनी जान भी दे सकता हूँ - गोरखनाथ ने जवाब दिया !

वह बोली - मैं दहीबडा़ लाती हूं तब तक तू आँख निकालकर रख ! इतना कह जब वह मुडी़ तो गोरखनाथ ने आँख में ऊंगली डाल पुतली को जोर से झटका मारकर आँख बाहर निकाल ली और खून टपकने लगा !

वह स्त्री लौटी तो उसके होश उड़ गए । वह मन ही मन दुखी होकर दहीबडे़ देकर जाने लगी ! तो गोरख बोले- माताजी ! आँख तो लेती जाओ ! वह पश्चाताप मे भर बोली-- बेटा ! मैं तेरी आँख लेकर क्या करूंगी ? मैं तो तेरी गुरू भक्ति देखकर खुद ही दुखी हो रही हूँ। बेटा ! मुझे माफ कर दे।

धन्य है भारतभूमि जहां ऐसे महान् गुरूभक्त शिष्य हुए जो अपने गुरू के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने के लिए सदैव तत्पर रहे।

Comments

Popular posts from this blog

बुरी खबर - पाकिस्‍तान के स्‍टार खिलाड़ी अफरीदी की गोली मारकर हत्‍या

  खेल प्रेमियो के लिए एक बहुत ही बुरी खबर है। पाकिस्‍तान में दो पक्षों की झगडे में पाकिस्‍तान के स्‍टार खिलाड़ी कर हत्या कर दी। यह घटना पाकिस्‍तान के खैबर जिले के जमरूद में घटित हुई। पाकिस्‍तान नेशनल फुटबॉल टीम के खिलाड़ी जुनैद अफरीदी की मैदान पर फुटबॉल मैच के दौरान ही गोली मारकर हत्‍या कर दी। जानकारी के मुताबिक दो समूह के बीच भूमि विवाद के कारण गोलीबारी हुई, जिसमें जुनैद को गोली लग गई और उन्‍होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। इस विवाद में जुनैद के अलावा भी एक व्‍यक्ति को गंभीर चोंटें भी आई है। इस घटना से फैंस में रोष हैं।

गुरुग्राम, फरीदाबाद व सोनीपत से उठी आवाज - अब लॉकडाउन नहीं

24 मार्च से 31 मई तक लगातार लॉकडाउन के चलते ठप हुई आर्थिक गतिविधियों से परेशान लोग अब लॉकडाउन जैसे शब्द सुनकर लोग सहम जाते हैं। 18 जून को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने साफ़ कर दिया था कि दिल्ली या इससे लगते बड़े शहरों में कोरोना को लेकर एक जैसे निर्णय होने चाहिए। इसके अलावा उन्होंने कहा था कि दिल्ली से लगते हरियाणा या उत्तर प्रदेश बॉर्डर सील करने संबंधी कोई निर्णय सरकार अपने स्तर पर नहीं ले। वहीं हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज कह रहे हैं कि दिल्ली से सटे जिलों में (फरीदाबाद, गुरुग्राम, झज्जर व सोनीपत) लॉकडाउन से ही स्थिति काबू आएगी। जबकि इन जिलों के जनप्रतिनिधि भी यही चाहते हैं कि अब यहा लॉकडाउन ना लगे। हरियाणा के  उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला भी अभी लॉकडाउन लगाने के पक्ष में नहीं है। उनका कहना है कि जैसे पूरे देश में कोरोना फैला है, हरियाणा में फिर भी काफी नियंत्रित है। माना की अधिकतम कोरोना मरीज एनसीआर में ही हैं, मगर इसके बावजूद भी वहा स्थिति बिगड़ी नहीं है। सरकार के पास स्वास्थ्य सुविधाओं सहित सभी संसाधन पूरे हैं। अब टेस्टिंग भी बढ़ाई गई है इसलिए मामले भी ज्यादा आ रहे हैं। अगर स्

7 मशहूर पाकिस्तानी सितारे जिन्होने कर ली अपनी ही बहन से शादी

हम आपको उन पाकिस्तानी सितारों के बारे में बताते है जिन्होने अपनी ही बहन से शादी कर ली। इनमे से कुछ को तो आप भली भांति जानते भी होंगे लेकिन कभी उनकी असल जिंदगी में झाँकने का मौका नहीं मिला होगा। भले ही भारत में आपको यह अजीब लगा हो लेकिन लाहौर यूनिवर्सिटी की शोध के अनुसार 82.5% पाकिस्तानी अपने खून के रिश्ते में शादी कर लेते है। शाहिद आफरीदी ये है पाकिस्तान की क्रिकेट टीम के मशहूर खिलाडी जिनको बूम बूम अफरीदी के नाम से भी जाना जाता है। मैदान में तो ये अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते है लेकिन हम बात करते है इनकी घरेलु जिंदगी की। इन्होने अपनी चचेरी बहन नाडिया से शादी की और इनकी 4 बेटियां है। बाबर खान बाबर खान पाकिस्तानी सिनेमा के मशहूर अभिनेता है। इन्होने पहले सना खान से शादी की लेकिन एक कार दुर्घटना में उनकी मौत हो गयी । इसके बाद इन्होने अपनी चचेरी बहन बिस्मा खान से शादी की जो उस वक़्त 9वी कक्ष्या में पढ़ती थी रेहम खान  रेहम खान पाकिस्तान की एक बहुत ही मशहूर पत्रकार और फिल्म प्रोडूसर है। उन्होंने भी अपनी पहली शादी अपने भाई इजाज के साथ की थी जब ये मात्र 19 स