Skip to main content

इस श्राप के कारण शिवजी ने काटा था बालक गणेश का सिर

कहते है की इंसान का वर्तमान, उसके पिछले कर्मो पर और भविष्य वर्तमान कर्मों पर आधारित होता है। लेकिन यह बात केवल इंसानो पर ही नहीं अपितु भगवानों पर भी लागू होती है।

हमारे पुराणों में अनेक ऐसी कथाएँ है जब भगवान द्वारा अतीत में किये गए अनुचित कार्यों के कारण उन्हें आने वाले समय में कष्ट उठाने पड़े। ऐसी ही एक कहानी भगवान शंकर से सम्बंधित है जब उन्हें कश्यप ऋषि द्वारा दिए गए शाप के कारण अपने ही पुत्र गणेश का मस्तक काटना पड़ा।

भगवान गणेश का जन्म की कहानी :

देवी पार्वती ने एक बार शिवजी के गण नन्दी के द्वारा उनकी आज्ञा पालन में त्रुटि के कारण अपने शरीर के उबटन से एक बालक का निर्माण कर उसमें प्राण डाल दिए और कहा कि तुम मेरे पुत्र हो। तुम मेरी ही आज्ञा का पालन करना और किसी की नहीं। देवी पार्वती ने यह भी कहा कि मैं स्नान के लिए जा रही हूं। कोई भी अंदर न आने पाए। थोड़ी देर बाद वहां भगवान शंकर आए और देवी पार्वती के भवन में जाने लगे।

यह देखकर उस बालक ने विनयपूर्वक उन्हें रोकने का प्रयास किया। बालक का हठ देखकर भगवान शंकर क्रोधित हो गए और उन्होंने अपने त्रिशूल से उस बालक का सिर काट दिया। देवी पार्वती ने जब यह देखा तो वे बहुत क्रोधित हो गई। उनकी क्रोध की अग्नि से सृष्टि में हाहाकार मच गया। तब सभी देवताओं ने मिलकर उनकी स्तुति की और बालक को पुनर्जीवित करने के लिए कहा।

तब भगवान शंकर के कहने पर विष्णुजी एक हाथी का सिर काटकर लाए और वह सिर उन्होंने उस बालक के धड़ पर रखकर उसे जीवित कर दिया। तब भगवान शंकर व अन्य देवताओं ने उस गजमुख बालक को अनेक आशीर्वाद दिए। देवताओं ने गणेश, गणपति, विनायक, विघ्नहरता, प्रथम पूज्य आदि कई नामों से उस बालक की स्तुति की। इस प्रकार भगवान गणेश का प्राकट्य हुआ।

कश्यप ऋषि ने दिया था शिव जी को शाप : ब्रह्मवैवर्तपुराण के अनुसार एक बार नारद जी ने श्री नारायण से पूछा कि प्रभु आप बहुत विद्वान है और सभी वेदों को जानने वाले हैं। मैं आप से ये जानना चाहता हूं कि जो भगवान शंकर सभी परेशानियों को दूर करने वाले माने जाते हैं। उन्होंने क्यों अपने पुत्र गणेश की के मस्तक को काट दिया।

यह सुनकर श्रीनारायण ने कहा नारद एक समय की बात है। शंकर ने माली और सुुमाली को मारने वाले सूर्य पर बड़े क्रोध में त्रिशूल से प्रहार किया। सूर्य भी शिव के समान तेजस्वी और शक्तिशाली था। इसलिए त्रिशूल की चोट से सूर्य की चेतना नष्ट हो गई। वह तुरंत रथ से नीचे गिर पड़ा। जब कश्यपजी ने देखा कि मेरा पुत्र मरने की अवस्था में हैं। तब वे उसे छाती से लगाकर फूट-फूटकर विलाप करने लगे। उस समय सारे देवताओं में हाहाकार मच गया। वे सभी भयभीत होकर जोर-जोर से रुदन करने लगे। अंधकार छा जाने से सारे जगत में अंधेरा हो गया। तब ब्रह्मा के पौत्र तपस्वी कश्यप जी ने शिव जी को शाप दिया वे बोले जैसा आज तुम्हारे प्रहार के कारण मेरे पुत्र का हाल हो रहा है। ठीक वैसे ही तुम्हारे पुत्र पर भी होगा। तुम्हारे पुत्र का मस्तक कट जाएगा।

यह सुनकर भोलेनाथ का क्रोध शांत हो गया। उन्होंने सूर्य को फिर से जीवित कर दिया। सूर्य कश्यप जी के सामने खड़े हो गए। जब उन्हें कश्यप जी के शाप के बारे में पता चला तो उन्होंने सभी का त्याग करने का निर्णय लिया। यह सुनकर देवताओं की प्रेरणा से भगवान ब्रह्मा सूर्य के पास पहुंचे और उन्हें उनके काम पर नियुक्त किया।

ब्रह्मा, शिव और कश्यप आनंद से सूर्य को आशीर्वाद देकर अपने-अपने भवन चले गए। इधर सूर्य भी अपनी राशि पर आरूढ़ हुए। इसके बाद माली और सुमाली को सफेद कोढ़ हो गया, जिससे उनका प्रभाव नष्ट हो गया। तब स्वयं ब्रह्मा ने उन दोनों से कहा-सूर्य के कोप से तुम दोनों का तेज खत्म हो गया है। तुम्हारा शरीर खराब हो गया है। तुम सूर्य की आराधना करो। उन दोनों ने सूर्य की आराधना शुरू की और फिर से निरोगी हो गए



Comments

Popular posts from this blog

बुरी खबर - पाकिस्‍तान के स्‍टार खिलाड़ी अफरीदी की गोली मारकर हत्‍या

  खेल प्रेमियो के लिए एक बहुत ही बुरी खबर है। पाकिस्‍तान में दो पक्षों की झगडे में पाकिस्‍तान के स्‍टार खिलाड़ी कर हत्या कर दी। यह घटना पाकिस्‍तान के खैबर जिले के जमरूद में घटित हुई। पाकिस्‍तान नेशनल फुटबॉल टीम के खिलाड़ी जुनैद अफरीदी की मैदान पर फुटबॉल मैच के दौरान ही गोली मारकर हत्‍या कर दी। जानकारी के मुताबिक दो समूह के बीच भूमि विवाद के कारण गोलीबारी हुई, जिसमें जुनैद को गोली लग गई और उन्‍होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। इस विवाद में जुनैद के अलावा भी एक व्‍यक्ति को गंभीर चोंटें भी आई है। इस घटना से फैंस में रोष हैं।

गुरुग्राम : कान में ईयरफोन लगा सैर कर रहा था युवक - ट्रेन की चपेट में आने से मौत

  धनवापुर फाटक  कि  रेलवे लाइन  के आस -पास शुक्रवार सुबह एक  हादसे में ट्रेन की चपेट में आकर एक युवक की मौत हो गई। युवक ने कान में ईयरफोन लगाए हुए गाने सुनते हुए पटरी के साथ-साथ चल  रहा था। मालगाड़ी के ड्राइवर ने काफी देर तक हॉर्न दिया, लेकिन गाने के चलते वह सुन नहीं सका और ट्रेन की चपेट में आ गया। जीआरपी थाना पुलिस ने बताया कि शुक्रवार सुबह करीब 7 बजे यह हादसा हुआ। लक्ष्मण विहार कॉलोनी निवासी 21 साल का अवनीश धनवापुर फाटक के पास सैर करने गया। वह ट्रेन की पटियों के साथ-साथ सैर कर रहा था। कान में ईयरफोन लगाकर वह तेज आवाज में गाने भी सुन रहा था। तभी दिल्ली की ओर से मालगाड़ी आई। लोको पायलट ने युवक को देखकर हॉर्न भी बजाया लेकिन ईयरफोन व गाने की तेज आवाज के चलते युवक सुन नहीं सका और मालगाड़ी की चपेट में आ गया। इस हादसे की सारी सूचना कंट्रोल रूम  में दी गई तो जीआरपी थाना पुलिस मौके पर पहुंची। मृतक छात्र के परिजन  व पिता शैलेंद्र भी यहां आए। पिता ने शक जताया कि किसी ने बेटे को ट्रेन की ओर धक्का दिया। जीआरपी थाना पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराया। जिसमें युवक को धक्का देन

शादी का झांसा देकर दिल्ली की छात्रा से गुड़गांव के होटल में दुष्कर्म

  दिल्ली की 18 साल की छात्रा से गुड़गांव के होटल में दुष्कर्म का नया  मामला सामने आया है। छात्रा का कहना है की  आरोपित ने उसे शादी का झूठा झांसा देकर चुप करा दिया और लगभग 2 साल तक उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। और अब उससे शादी करने  से मना कर रहा   है। डीएलएफ सेक्टर-29 थाना एसएचओ इंस्पेक्टर जगबीर ने बताया कि युवती ने एफआईआर दर्ज करवाई । पुलिस के कहना है कि , शिकायत देने वाली छात्रा पत्राचार से बीए प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रही है। उसकी उम्र अब 18 साल 2 महीने है। युवती का कहना है कि साल 2018 में एक शादी समारोह में गुड़गांव के सरहौल गांव निवासी अभिषेक से उसकी भेंट  हुई।और जल्द ही दोनों की मुलाकात दोस्ती में बदल गई और दोनों मोबाइल पर बातचीत करने लगे। युवती ने  आरोप लगाया है कि युवक ने कुछ समय पहले एमजी रोड स्थित एक होटल में बहाने से बुलाकर रेप किया। युवती ने जब उसकी बात के खिलाफ विरोध जताया तो उसने कहा कि जल्द ही शादी कर लेंगे। लेकिन इसके बाद से कई बार रेप किया और अब शादी से इंकार कर दिया। बुधवार शाम को युवती ने पुलिस शिकायत को दी । जिस पर एफआईआर दर्ज की गई है कार्रवाई कर जल्द ही आरोपित को पकड़