Skip to main content

कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान सऊदी अरब आमने सामने - सऊदी अरब का पाकिस्तान को पैसे और तेल देने से इंकार


अपने ही खास और ताकतवर दोस्त को आंख दिखाना पाकिस्तान को इतना महंगा पड़ेगा यह कभी पाकिस्तान ने अपने सपने में भी नहीं सोचा था। सऊदी अरब अब पाकिस्तान को न तो कर्ज देगा और न ही उसे तेल देगा। इतना ही नहीं सऊदी अरब ने अपने पुराने कर्ज की वसूली भी शुरू कर दी है। इस तरह से सऊदी अरब और पाकिस्तान के बीच दशकों पुरानी दोस्ती रिश्ता आज खत्म हो गया है।

पाकिस्तान को सऊदी अरब का 1 बिलियन डॉलर का कर्ज भी इसी महीने देना होगा, जो नवंबर 2018 में सऊदी अरब द्वारा 6.2 बिलियन डॉलर के पैकेज का एक हिस्सा था। इसमें पैकेज में कुल  3 बिलियन डॉलर का ऋण और एक ऑयल क्रेडिट सुविधा थी जिसमें 3.2 बिलियन डॉलर की राशि शामिल थी। जब क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने पिछले साल फरवरी में पाकिस्तान की यात्रा की थी, तब उन्होंने पाकिस्तान के साथ यह सौदा किया था।

इस्लामिक सहयोग संगठन यानी ओआईसी 57 मुस्लिम देशों का एक समूह है जिसमें सऊदी अरब का दबदबा है। संयुक्‍त राष्‍ट्र के बाद ओआईसी दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा संगठन है।

दरअसल भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाया है, तब से ही पाकिस्तान भारत के इस कदम के खिलाफ इस्लामिक सहयोग संगठन की बैठक करने के लिए लगातार दबाव बना रहा है। इस साल फरवरी में पाकिस्तान ने सऊदी अरब से इस्लामिक सहयोग संगठन की बैठक बुलाने को कहा था मगर सऊदी अरब ने ऐसा करने से इनकार कर दिया जिसके बाद से पाकिस्तान आग-बबूला हो गया।

इसी महीने की शुरुआत में पाकिस्तान ने सऊदी अरब को धमकी देकर सबसे बड़ी गलती कर दी। पाक विदेश मंत्री कुरैशी ने सऊदी अरब के नेतृत्‍व वाले इस्लामिक सहयोग संगठन यानी ओआईसी बैठक आयोजित नहीं करने को लेकर धमकी दी थी  और इसकी सऊदी की आलोचना की थी। इतना ही नहीं पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी ने मुस्लिम देशों के इस संगठन को तोड़ने की भी धमकी दी थी।

पाकिस्‍तान के एक लोकल न्‍यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा था, 'मैं एक बार फिर से पूरे सम्‍मान के साथ इस्लामिक सहयोग संगठन से कहना चाहता हूं कि विदेश मंत्रियों की परिषद की बैठक हमारी अपेक्षा है। अगर आप इसे बुला नहीं सकते हैं तो मैं प्रधानमंत्री इमरान खान से यह कहने के लिए बाध्‍य हो जाऊंगा कि वह ऐसे इस्‍लामिक देशों की बैठक बुलाएं जो कश्‍मीर के मुद्दे पर हमारे साथ खड़े होने के लिए तैयार हैं।'

पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी ने तो यह तक कह दिया था कि अगर ओआईसी विदेश मंत्रियों की परिषद की बैठक बुलाने में विफल रहता है तो पाकिस्तान ओआईसी के बाहर एक सत्र का आयोजन करेगा। क्योंकि कश्मीर मसले पर पाकिस्तान अब और इंतजार नहीं कर सकता।

Comments

Popular posts from this blog

बुरी खबर - पाकिस्‍तान के स्‍टार खिलाड़ी अफरीदी की गोली मारकर हत्‍या

  खेल प्रेमियो के लिए एक बहुत ही बुरी खबर है। पाकिस्‍तान में दो पक्षों की झगडे में पाकिस्‍तान के स्‍टार खिलाड़ी कर हत्या कर दी। यह घटना पाकिस्‍तान के खैबर जिले के जमरूद में घटित हुई। पाकिस्‍तान नेशनल फुटबॉल टीम के खिलाड़ी जुनैद अफरीदी की मैदान पर फुटबॉल मैच के दौरान ही गोली मारकर हत्‍या कर दी। जानकारी के मुताबिक दो समूह के बीच भूमि विवाद के कारण गोलीबारी हुई, जिसमें जुनैद को गोली लग गई और उन्‍होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। इस विवाद में जुनैद के अलावा भी एक व्‍यक्ति को गंभीर चोंटें भी आई है। इस घटना से फैंस में रोष हैं।

7 मशहूर पाकिस्तानी सितारे जिन्होने कर ली अपनी ही बहन से शादी

हम आपको उन पाकिस्तानी सितारों के बारे में बताते है जिन्होने अपनी ही बहन से शादी कर ली। इनमे से कुछ को तो आप भली भांति जानते भी होंगे लेकिन कभी उनकी असल जिंदगी में झाँकने का मौका नहीं मिला होगा। भले ही भारत में आपको यह अजीब लगा हो लेकिन लाहौर यूनिवर्सिटी की शोध के अनुसार 82.5% पाकिस्तानी अपने खून के रिश्ते में शादी कर लेते है। शाहिद आफरीदी ये है पाकिस्तान की क्रिकेट टीम के मशहूर खिलाडी जिनको बूम बूम अफरीदी के नाम से भी जाना जाता है। मैदान में तो ये अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते है लेकिन हम बात करते है इनकी घरेलु जिंदगी की। इन्होने अपनी चचेरी बहन नाडिया से शादी की और इनकी 4 बेटियां है। बाबर खान बाबर खान पाकिस्तानी सिनेमा के मशहूर अभिनेता है। इन्होने पहले सना खान से शादी की लेकिन एक कार दुर्घटना में उनकी मौत हो गयी । इसके बाद इन्होने अपनी चचेरी बहन बिस्मा खान से शादी की जो उस वक़्त 9वी कक्ष्या में पढ़ती थी रेहम खान  रेहम खान पाकिस्तान की एक बहुत ही मशहूर पत्रकार और फिल्म प्रोडूसर है। उन्होंने भी अपनी पहली शादी अपने भाई इजाज के साथ की थी जब ये मात्र 19 स

इंशा जान - 23 साल की युवती जिसने पुलवामा हमले में की थी आतंकियों की मदद

पुलवामा में जो हमला हुआ था उसकी जांच की चार्जशीट मिल चुकी है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने 13,500 पेज की अपनी चार्जशीट में 19 लोगों को आरोपी बताया  है जिन्होंने पुलवामा हमले की जो साजिश रची और साजिश रचने वालो ने ग़लत हरकत को अंजाम दिया। चार्जशीट में लड़कियों में एक अकेली इंशा जान का नाम भी शामिल है। इंशा हमले के मास्टरमाइंड उमर फारूक की बहुत करीबी थी जिसे मार्च 2019 में मार दिया गया था। एनआईए ने चार्जशीट में खुलासा किया है कि इंशा ने पिछले साल आत्मघाती हमले को अंजाम देने वाले जैश-ए-मोहम्मद  के आतंकवादियों की हर तरह से मदद की थी। 23 साल की इंशा पाकिस्तानी बम बनाने वाले मुख्य साजिशकर्ता मोहम्मद उमर फारूक की करीबी साथी थी। वह उसके सा फोन और दूसरे सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर संपर्क में थी। एनआईए ने उनकी चैट को अच्छी तरह से ढूंढा है जिससे पता चलता है कि दोनों एक-दूसरे के काफी करीब थे। एनआईए ने अपनी चार्जशीट में इसे मेंशन किया है। इंशा जान के पिता तारीक पीर भी दोनों के रिलेशनशिप के बारे में जानता था। तारिक पीर ने कथित रूप से पुलवामा और उसके आसपास उमर फारूक और उसके दो साथियों की मूवमेंट